SC/ST एक्‍ट में बदलाव पर अपने दिए फैसले पर सुप्रीम कोर्ट कायम

4271
19321
SC/ST एक्‍ट पर दिए फैसले पर सुप्रीम कोर्ट कायम
SC/ST एक्‍ट पर दिए फैसले पर सुप्रीम कोर्ट कायम

SC/ST एक्‍ट पर दिए फैसले पर सुप्रीम कोर्ट कायम. सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को जस्टिस आदर्श कुमार गोयल और जस्टिस यूयू ललित की बेंच ने एससी/एसटी में हुए बदलावों के खिलाफ केंद्र सरकार की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए अपने पुराने फैसले पर किसी भी तरह से रोक लगाने से इनकार कर दिया है. हालांकि अदालत ने इस केस में केंद्र की याचिका स्‍वीकार कर ली. अब अगली सुनवाई दो हफ्ते बाद होगी, साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों से 3 दिन के भीतर लिखित नोट जमा करने को कहा है. कोर्ट ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट के प्रावधान के अलावा शिकायत में बाकी जो भी अपराधों का ज़िक्र हो, उन पर तुरन्त एफआईआर दर्ज हो.




सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा “हमने एक्ट में कोई बदलाव नहीं किया. हम वंचित तबके के लिए न्याय को बेहद अहम मानते हैं. सिर्फ पुलिस के हाथों निर्दोष लोगों का दमन न हो, इसके कुछ उपाय किए.” कोर्ट ने फैसले के खिलाफ सदाप पर हिंसा फ़ैलाने वालो पर टिप्पड़ी करते हुए कहा “सड़क पर विरोध करने वालों ने शायद हमारा फैसला पढ़ा भी नहीं होगा. हम एससी/एसटी एक्‍ट के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन किसी बेकसूर को सजा नहीं मिलनी चाहिए. फैसले का मकसद सिर्फ यही था कि निर्दोष लोगों को गिरफ्तारी से कुछ संरक्षण हासिल हो सके.”




कोर्ट में सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट के सामने लोगो के विरोद प्रदर्शन की दलील रखते हुए कहे “एससी/एसटी एक्‍ट परसुप्रीम कोर्ट के फैसले के चलते जैसे देश में इमरजेंसी जैसे हालात हैं. हजारों लोग सड़क पर हैं. इन प्रदर्शनों में 10 लोगों की मौत हो गई, हज़ारों-करोड़ रुपए की संपत्ति का नुकसान हो गया है. लिहाजा, इस आदेश पर फिलहाल रोक लगाई जाए.” एमिकस क्यूरी अनरेंद्र शरण ने अटॉर्नी जनरल की इस दलील पर आपत्ति जताते हुए कहा “लॉ एंड ऑर्डर की परिस्थिति सुप्रीम कोर्ट के आदेश को बदलने का कारण नहीं हो सकती है. लॉ एंड ऑर्डर को सही रखना सरकार की जिम्मेदारी है.”



Comments are closed.