राजस्व विभाग को चुनाव आयोग की फटकार, कहा ‘कार्रवाई भेदभाव रहित होनी चाहिए’

0
36
छापेमारी पर राजस्व विभाग को चुनाव आयोग की फटकार
File picture

लोक सभा चुनाव के ठीक पहले आयकर विभाग की तरफ से की जा रही छापेमारी को लेकर चुनाव आयोग ने राजस्व विभाग की तरफ से दिए गए जवाब को लेकर उसे फटकार लगाई है। चुनाव आयोग ने राजस्व विभाग की ओर से दिए गए उस जवाब को अशिष्टता माना है, जिसमें आयोग ने विभाग को सलाह दी थी कि चुनाव के दौरान उसकी इनकम टैक्स और ईडी जैसी प्रवर्तन एजेंसियों की कोई भी कार्रवाई निष्पक्ष एवं भेदभाव रहित होनी चाहिए। चुनाव आयोग ने 7 अप्रैल को राजस्व विभाग को एक पत्र लिखा था, जिसमें कहा गया था कि कहीं भी आयकर छापा मारने से पहले संबंधित मुख्य चुनाव अधिकारी को जानकारी दें। बता दे कि लोक सभा चुनाव के ठीक पहले आयकर विभाग कई राज्यों में छापेमारी कर रही है जिसे कांग्रेस बदले कि राजनीति बता रही है।

राजस्व विभाग के जवाब पर आयोग ने कहा, ‘चुनाव आयोग की ओर से निष्पक्ष और भेदभावपूर्ण रवैया न अपनाने वाली सलाह पर राजस्व विभाग की तरफ से बहुत ही हल्के और अनौपचारिक ढंग से जवाब दिया गया जिस पर आयोग विरोध जताता है। किसी संवैधानिक अथॉरिटी के लिए इस तरह के लहज़े का प्रयोग किया जाना निराशाजनक है।’ चुनाव आयोग द्वारा भेजे गए पत्र का जवाब देते हुए राजस्व विभाग ने एक पत्र लिखा जिसमें विभाग ने कहा, ‘चूंकि राजस्व विभाग और चुनाव आयोग दोनों की जिम्मेदारी है कि चुनाव के दौरान प्रयोग होने वाले बेहिसाब धन पर रोक लगाएं, इसलिए हमारा चुनाव आयोग से निवेदन है कि वह आचार संहिता को लागू कराने वाले अपने फील्ड ऑफीसर्स को सलाह दें कि वे इसके खिलाफ तेजी से कार्रवाई करें।’