SC/ST एक्ट में बदलाव के खिलाफ दलित संगठन आज करेंगे ‘भारत बंद’

4149
817
SC/ST एक्ट बदलाव के खिलाफ दलित संगठन का 'भारत बंद'
SC/ST एक्ट बदलाव के खिलाफ दलित संगठन का 'भारत बंद'

SC/ST एक्ट बदलाव के खिलाफ दलित संगठन का ‘भारत बंद’. अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम को लेकर सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले के विरोध में दलित और आदिवासी संगठनों ने आज (2 अप्रैल) भारत बंद का ऐलान किया है. सूत्रों के मुताबिक दलित संगठन से जुड़े लोगों उड़ीसा के संभलपुर में रेल पटरियों पर इकट्ठा होकर ट्रेनों की आवाजाही रोक दी. इस बंद का आह्वान दलित संगठन संविधान बचाओ संघर्ष समिति ने किया है जिसे दूसरे संगठनों का भी समर्थन मिल रहा है. बंद का आवाहन करने वाली संगठनों की मांग है कि अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम 1989 में संशोधन को वापस लेकर एक्ट को पूर्व की तरह लागू किया जाए.




पंजाब सरकार ने एतिहातन बस और मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित रखने का आदेश दिया है, जिसके मुताबिक पीआरटीसी, पंजाब रोडवेज और पनबस की बसें कल सड़कों पर नहीं दौड़ेंगी तथा इन बसों की सेवाएं निलंबित रहेंगी. पंजाब शिक्षा निदेशालय ने सुरक्षा के मद्देनजर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से पंजाब में सोमवार को होने वाली 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने की मांग की थी, जिसे मानते हुए सीबीएसई ने सोमवार को 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द कर दी है. पंजाब सरकार ने किसी भी हालत से निपटने के लिए सेना और अर्द्धसैनिक बलों को अलर्ट पर रखा गया है.




गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने एसएसी/एसटी एक्ट के तहत तुरंत होने वाली गिरफ्तारी और आपराधिक मामले दर्ज किए जाने को हाल ही में प्रतिबंधित कर दिया है. वहीं केन्द्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में आज एक पुनर्विचार याचिका दायर करेगा जिसमे सरकार एससी-एसटी के कथित उत्पीड़न को लेकर तुरंत होने वाली गिरफ्तारी और मामले दर्ज किए जाने को प्रतिबंधित करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश को चुनौती देगी. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर विरोध जताया है. गुजरात के विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवानी भी भारत बंद में शामिल हुए हैं, जिसकी जानकारी उन्होंने ट्वीट करके दी.



Comments are closed.