यूपी: गांव जनरल कैटेगरी का है, वोट मांगकर शर्मिंदा न करें

0
42
सोनबरसा:गांव जनरल कैटेगरी का है, वोट मांगकर शर्मिंदा न करें

बलिया में सोनबरसा गांव के प्राथमिक विद्यालय के सामने गांव के प्रवेश द्वार पर लगी होर्डिंग चर्चा का विषय बनी हुई है. अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम (एससी/एसटी एक्ट) के तहत तुरंत गिरफ्तारी के प्रावधान की बहाली के प्रधानमंत्री मोदी सरकार के कदम के विरोध में बलिया जिले के सोनबरसा गांव में ग्रामीणों ने होर्डिंग लगाकर अपना विरोध जाहिर किया है. होर्डिंग पर लिखा हुआ है ‘‘यह गांव सामान्य वर्ग का है. कृपया राजनीतिक पार्टियां वोट मांगकर शर्मिंदा ना करें, हम अपना वोट नोटा (किसी भी उम्मीदवार को नहीं) को देंगे.’’ इस अनोखे विरोध प्रदर्शन की अगुआई गांव के सामान्य वर्ग के युवा कर रहे हैं.

विरोध प्रदर्शन में शामिल एक शख्स का कहना है कि एससी/एसटी एक्ट के तहत आरोपी की तुरंत गिरफ्तारी का प्रावधान खत्म करने का सुप्रीम कोर्ट का फैसला न्याय हित में था, लेकिन कुछ राजनीतिक दलों ने न्यायालय के फैसले को पलटकर अधिनियम के जरिये ब्लैकमेल करने का औजार उपलब्ध करा दिया है. राजनीतिक दलों के लिये आम लोगों का हित और सरोकार कोई मायने नहीं रखता, उन्हें केवल सत्ता में बने रहने की ही चिंता है. जिला मुख्यालय से तकरीबन 38 किलोमीटर दूर बैरिया-दलनछपरा मार्ग पर स्थित सोनबरसा गांव के प्राथमिक विद्यालय के सामने गांव के प्रवेश द्वार पर लगी होर्डिंग पर जो लिखा है उससे सवर्णो का गुस्सा सरकार और विपक्ष के लिए साफ देखा जा सकता है.