विवेक तिवारी हत्याकांड: फिर बगावत की तैयारी में यूपी पुलिस के सिपाही?

0
76
विवेक तिवारी हत्याकांड:फिर बगावत की तैयारी में यूपी पुलिस सिपाही?

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या के मामले के बाद सोशल मीडिया पर सिपाहियों की बगावत को लेकर एक पोस्ट वायरल हो रहा है. सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट के मुताबिक 5 अक्टूबर की तरह ही 10 अक्टूबर को भी यूपी पुलिस के बागी सिपाही प्रदर्शन करेंगे. खुफिया रिपोर्ट के आधार पर डीजीपी मुख्यालय ने अलर्ट जारी किया है. इस बीच पांच अक्टूबर को काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन करने के मामले में गाजीपुर में दो और सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है. साथ ही 11 पुलिसकर्मियों का तबादला भी कर दिया गया है. भड़काऊ पोस्ट के लिए कई बर्खास्त सिपाहियों की गिरफ्तारी भी हुई है. आपको बता दे कि सिपाहियों की बगावत पर सीएम योगी ने नाराजगी जताते हुए इसे उच्च स्तर पर की गई लापरवाही का नतीजा बताया था.

सिपाहियों की बगावत को रोकने उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने निगरानी शुरू कर दी है. इसके लिए खुफिया विभाग, एसटीएफ और एटीएस के लोगों को भी काम पर लगाया गया है. डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि सभी सिपाहियों की सोशल मीडिया एक्टिविटी पर नजर है. हमने पुलिस विभाग की जिलों में तैनात सोशल मीडिया टीम भी लगाई है. अनुशासनहीनता के खिलाफ सख्त कार्रवाई हुई है और आगे भी अनुशासनहीनता करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. उधर विवेक तिवारी हत्याकांड के आरोपी सिपाही प्रशांत चौधरी की पत्नी राखी चौधरी का एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें सिपाहियों से इस मामले में विरोध न करने की अपील कर रही हैं. वीडियो के अलावा उन्होंने चिट्ठी भी जारी की है.

दरअसल, पश्चिम यूपी में पुलिस कर्मियों की ओर से वॉट्सऐप पर मैसेज वायरल किया जा रहा है. जिसमें भड़काऊ बातें हैं. वायरल मैसेज में कहा जा रहा है कि 10 अक्टूबर को अपनी एकता दिखाने का मौका है. पत्र में वायरल हो रहे एक वाट्एसएप मैसेज का जिक्र किया है. जिसके मुताबिक सिपाहियों को 10 अक्टूबर को काम का बहिष्कार करने के लिए भड़काया जा रहा है. एसपी ने अपने चिट्ठी के जरिए खुफिया विभाग के लोगों को जानकारी जुटाने के लिए कहा है. इसे लेकर मेरठ खुफिया विभाग के एक अधिकारी का पत्र भी वायरल हो रहा है. जिसमें सहारनपुर, मेरठ और गाजियाबाद के मंडलाधिकारियों से इस पर निगाह रखने का निर्देश दिया गया है. इसे देखते हुए डीजीपी की ओर से भी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं.