यूपी:पुलिस की छवि सुधरने के लिए सिपाहियों को अधिकारी देंगे ट्रेनिंग

0
69
यूपी:पुलिस छवि सुधरने लिए सिपाहियों को बड़े अधिकारी देंगे ट्रेनिंग
File Picture

कुछ पुलिसवालो की वजह से बीता कुछ समय उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए आलोचनाओं का दौर रहा. पुलिसवालो की वजह से हो रही बदनामियों से बचने के लिए उत्तर प्रदेश डीजीपी ने पूरी राज्य में सिपाहियों की विशेष ट्रेनिंग करवाने का फैसला किया है. पुलिसवालो को वर्दी का गरुर दूर करने के साथ लोगों से पेश आने के तौर-तरीके सिखाए जाएंगे. पहले चरण में 6 हजार सिपाही शामिल होंगे. डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि इस ट्रेनिंग में सभी मुद्दों पर, धर्म निरपेक्षता पर, संविधान-कानून के बारे में जानकारी दी जाएगी ताकि उनका माइंडसेट बदला सके. उन्होंने बताया कि सोमवार से लखनऊ में एडीजी राजीव कृष्णा ट्रेनिंग कराएंगे जिन्होंने खुद कोर्स तैयार किया है.

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि वह खुद इसमें स्वयं लेक्टर देंगे. करीब 20 बैच चलाए जाएंगे. इसमें आईजी, एसएसपी, एडिश्ननल एसपी और सीओ वो सब इसमें लेक्चर देंगे. डीजीपी ओपी सिंह से सवाल पूछा गया कि आपको क्या लगता है कि अगर पुलिस की बेहतर ट्रेनिंग हुई होती को विवेक तिवारी के साथ जो हुआ वह नहीं होता? इस पर डीजीपी ने जवाब दिया, ‘हां सही बात है, मैं यह मानता हूं कि कैसे पुलिस को किसी कार या वाहन को रोकना है. कैसे उसे सर्च करना है. हमारा टैक्टिकल ऑपरेशन क्या होगा. इन सब चीजों का ध्यान रखना जरूरी है. हमारा उस समय मूवमेंट और ध्यान में होगा, हमारी ट्रेनिंग का हिस्सा होगा.

गौरतलब है कि बीता कुछ समय उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए अच्छा नहीं रहा है. लखनऊ में विवेक तिवारी हत्याकांड से पहले भी पुलिस ने कई ऐसे कारनामे किये जिसके चलते उत्तर प्रदेश पुलिस को लगातार आलोचना झेलनी पड़ी. नोएडा में एक सब-इंन्सपेक्टर ने फर्जी एनकाउंटर में जिम ट्रेनर को गोली मार दी, मुरादाबाद में थाने के अंदर प्रेमी जोड़े की पिटाई कर दी, हापुड़ में मॉब लिचिंग में संवेदनहीनता दिखाई, अलीगढ़ में लाइव एन्काउंटर शूट किया गया और मेरठ में एक छात्र को इसलिए पीटा गया क्योंकि उसकी दोस्त किसी दूसरे धर्म की थी. इन सब घटनाओ का ध्यान रखते हुए पुलिसवालो को ट्रेनिंग देने का फैसला लिया गया है.