उन्नाव गैंगरेप: पीड़िता के पिता की जेल में मौत, बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का भाई गिरफ्तार

0
473
उन्नाव गैंगरेप में बीजेपी MLA का भाई गिरफ्तार
उन्नाव गैंगरेप में बीजेपी MLA का भाई गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश सरकार के उन्नाव में एक युवती के साथ हुए गैंगरेप में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके दोस्तों पर आरोप है. आऱोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा है कि नाम आने से कोई इस्तीफा देता है क्या. फ़िलहाल लखनऊ क्राइम ब्रांच ने BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह के अलावा समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. गौरतलब है कि एक समाचार एजेंसी ने दवा किया है कि पुलिस द्वारा दर्ज की गयी एफआईआर में विधायक का नाम नहीं है, वही सूत्रों के मुताबिक माना जा रहा है कि उन्नाव पुलिस अब बीजेपी विधायक के भाई अतुल सिंह और उसके साथियों का नाम FIR में शामिल करेगी.




बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म का आरोप है, पीड़ित युवती ने आरोप लगाया था कि विधायक और उनके भाई अतुल सिंह ने उसके साथ दुष्कर्म किया और अब उसे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं, साथ ही विधायक के गुर्गे आए दिन उसके और परिवार के लोगों के साथ मारपीट किया करते हैं. पीड़िता का आरोप है कि बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह ने पुलिस के साथ मिलीभगत करके फर्जी मामला दर्ज करवाकर उसके पिता को उन्नाव जिला जेल भिजवा दिया. गौरतलब है कि सोमवार को खबर आई कि उसके पिता ने जेल में दम तोड़ दिया है. पीड़िता के पिता की मौत के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया और मामले की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिये गये हैं.




न्याय की मांग को लेकर आरोप लगाने वाली लड़की ने कल सीएम योगी के घर के बाहर आत्मदाह की कोशिश की और कल रात लड़की के पिता की जेल में संदिग्ध परिस्थियों में मौत हो गई. रेप पीड़िता के पिता की जेल में मौत के बाद नींद से जागी योगी सरकार ने छह पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया है और आऱोपी विधायक के चार समर्थकों की गिरफ्तारी हुई है. पीड़िता के पिता कि मौत पर पुलिस कि भूमिका संदेह में मणि जा रही है. पुलिस ने अपने बयान में कहा है कि लड़की के पिता को रविवार रात को जेल में पेट दर्द के साथ खून की उल्टियां शुरू हुई थीं जिसके बाद उन्हें तुरंत जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया. मगर रात लगभग तीन बजे उसकी मौत हो गयी.




सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोपी विधायक को तलब किया था, उसके बाद कहा था कि जांच के आदेश दिए गए हैं और कोई भी आरोपी छूटेगा नहीं. वही दूसरी तरफ बीजेपी विधायक का कहना है कि मुझे बुलाया नहीं गया है, बल्कि मैं खुद सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने आया हूं. आरोपों को लेकर उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ साजिश हुई है, मुझे फंसाने की कोशिश की जा रही है साथ ही उन्होंने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है. उन्नाव की पुलिस अधीक्षक पुष्पांजलि देवी ने कहा, ‘घटना की गंभीरता को देखते हुए 2 पुलिस अधिकारी और 4 कॉन्स्टेबल को निलंबित कर दिया गया है, जबकि बलात्कार पीड़िता के पिता को पीटने वाले चार आरोपियों सोनू, बउवा, विनीत और शैलू को गिरफ्तार कर लिया है.’