क्या स्वच्छ भारत अभियान चढ़ा भ्रष्टाचार की भेट? छापेमारी में करोड़ो की संपत्ति जप्त

0
136
स्वच्छ भारत स्कीम के प्रभारी अभय सिंह राठौर घर छापा

मध्य प्रदेश के इंदौर में स्वच्छ भारत अभियान के प्रभारी और नगर निगम सहायक इंजीनियर अभय सिंह राठौर के यहां राज्य आर्थिक अपराध अनुसंधान ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) द्वारा छापेमारी में करोड़ों की संपत्ति मिली है. अभय सिंह राठौर के पास से मकान, होस्टल, सोने के 60 लाख रुपये के दो किलो आभूषण, सोने के बिस्किट समेत 20 करोड़ रुपये की संपत्ति के बारे में पता लगा है. जांच में पाया गया कि सह आरोपियों की उतनी आय नहीं है जितनी कीमती संपत्ति उनके पास पाई गई. बताया जा रहा है कि सहायक इंजीनियर अभय सिंह राठौर ने खुद को बचाने के लिए और छिपाने के लिए अपने परिवार वालों के नाम पर संपत्ति खरीद रखी थी.

आपको बता दे कि भय सिंह राठौर के पास गुलाब बाग़ में बांग्ला, तीन मंजिला होस्टल, दुकानें, प्लॉट, स्कीम 78 में दो मकान, स्कीम 134 और 94 में प्लॉट, 36 बीमा पॉलिसी, 3 कारें, 20 लाख कैश, सोना समेत 20 करोड़ की संपत्ति मिली है. अधिकारियों ने बताया कि अभय राठौर 1995 में सब इंजीनियर पद पर थे. यदि देखा जाए तो इस तरह उनका 23 साल की नौकरी में वेतन 60 लाख रुपये होगा. ईओडब्ल्यू डीएसपी आनंद यादव के मुताबिक, अभय सिंह व भाई संतोष सिंह को भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत आरोपी बनाया है. छापेमारी के बाद अब ऐसा लग रहा है कि स्वच्छ भारत अभियान भी भ्रष्टाचार के भेट चढ़ गयी.