यूपी में ताबड़तोड़ एनकाउंटर को CJI ने बताया गंभीर मामला, दो हफ्ते में जवाब मांगा

0
61
यूपी:ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्टने दो हफ्ते में जवाब मांगा
File picture

योगी सरकार आने के बाद पुलिस ने राज्य में ताबड़तोड़ एनकाउंटर किए. अब उसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को नोटिस जारी कर दिया है. भारत के मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई कहते हैं कि यह एक बहुत गंभीर मामला है. जिस पर विस्तृत सुनवाई की आवश्यकता है. अब इस मामले में अगली सुनवाई 12 फरवरी को सुनवाई होगी. हीं इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार का कहना था कि सारे मामलों की मजिस्ट्रेट जांच हो चुकी है और सभी तरह के दिशा-निर्देशों का पालन किया गया है. जो लोग इन मुठभेड़ों में मारे गए हैं उनके खिलाफ कई अपराधिक मामले चल रहे थे. सरकार ने कोर्ट को बताया था कि इस दौरान 98,526 अपराधियों ने सरेंडर भी किया है. जबकि 3,19,141 अपराधी गिरफ्तार किए गए.

दरअसल अब सुप्रीम कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया है. याचिका में कहा गया कि यूपी में मुठभेड़ों के नाम पर की गई हत्याओं की सीबीआई या एसआईटी जांच की निगरानी कोर्ट करे. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पीपल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज ( PUCL) की याचिका पर राज्य सरकार से दो हफ्ते में जवाब मांगा था. योगी सरकार ने एनकाउंटरों के खिलाफ याचिका को प्रेरित और दुर्भावनापूर्ण बताया. बता दे कि यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया था. हलफनामे में कहा गया कि अपराधियों को पीड़ित बनाकर पेश किया गया. अल्पसंख्यकों का एन्काउंटर करने का आरोप गलत है. मुठभेड़ में मारे गए 48 लोगों में से 30 बहुसंख्यक हैं.