रामपाल दोनों मामलों में दोषी करार, 16-17 अक्टूबर को सजा सुनाई जाएगी

0
104
स्वघोषित संत रामपाल दोनों मामलों में दोषी करार
File Picture

हरियाणा की हिसार जेल में विशेष अदालत ने स्वघोषित संत और सतलोक आश्रम के प्रमुख रामपाल को दो मामलों में दोषी करार दिया है. एक मामले में रामपाल समेत 15 आरोपी को दोषी करार दिया गया है. इस मामले में सजा का एलान 16 अक्टूबर को होगा. जबकि चार महिलाओं एक बच्चे की मौत के मामले में रामपाल समेत 13 आरोपियों को दोषी करार दिया गया. इस मामले में सजा का एलान 17 अक्टूबर को होगा. माना जा रहा है कि इस मामले में रामपाल को फांसी से लेकर उम्र कैद तक की सजा हो सकती है. रामपाल को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए कोर्ट ने ये फैसला सुनाया. वहीं किसी भी हिंसा की आशंका को देखते हुए हिसार जिले में धारा 144 लागू है.

पुलिस को रामपाल के समर्थकों के एकजुट होने का डर है. प्रशासन को अंदेशा है कि आज रामपाल के समर्थक कोर्ट परिसर, सेंट्रल जेल, लघु सचिवालय, टाउन पार्क और रेलवे स्टेशन जैसी जगहों पर जमा हो सकते हैं. फैसले से पहले हरियाणा के हिसार को छावनी में तब्दील कर दिया गया है. इसके चलते पड़ोसी जिले और राजस्थान से लगती सीमाएं सील कर दी गई हैं. वहीं हिसार आने-जाने वाली सभी ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया गया. दूसरे जिलों से भी पुलिस बल बुलाया गया है. हिसार में रैपिड ऐक्शन फोर्स की 5 कंपनियां तैनात कर दी गई हैं. फ़िलहाल पुलिस नहीं चाहती कि राम रहीम के फैसले के दिन पंचकुला में जो हुआ वो हिसार में हो.

मामला नवंबर 2014 का है. सतलोक आश्रम के संचालक कई आरोपों से घिरे थे. कोर्ट ने उनके खिलाफ वारंट जारी किया था. लेकिन उसे तामील नहीं किया जा सका था. पुलिस ने आश्रम को चारों तरफ से घेर लिया था. लेकिन रामपाल के समर्थक और भक्त पुलिस से लोहा ले रहे थे. पुलिस रामपाल को जब गिरफ्तार करने पहुंची थी जिसके बाद उसके समर्थकों ने हिंसा की थी. वे मरने मारने पर उतारू थे. हिंसा में 6 महिलाओं और एक बच्चे की मौत हो गई थी. उस समय पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों ने 12 दिनों के संघर्ष के बाद रामपाल को गिरफ्तार करने में कामयाब हो पायी थी.