डॉलर के मुकाबले रुपया पहुचा अबतक के सबसे निचले स्तर पर

0
60
डॉलर मुकाबले कमजोर होता रुपया पहुचा सबसे निचले स्तर पर
File Picture

डॉलर के सामने कमजोर होते रुपये ने इस कारोबारी हफ्ते के पहले दिन रिकॉर्ड गिरावट के साथ शुरुआत की है. यह रुपया का अब तक का सबसे कमजोर स्‍तर है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल में बढ़ोतरी और इमर्जिंग इकोनॉमी के सामने खड़ी चुनौतियों के चलते रुपये में गिरावट का सिलसिला जारी है. सोमवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 45 पैसे की गिरावट के साथ खुला है. इस गिरावट के चलते यह 72.18 के स्तर पर खुला है. एक डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत 72.30 तक पहुंच गई. आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से रुपये में लगातार गिरावट देखी जा रही है.

आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले ही उद्योग मंडल सीआईआई द्वारा आयोजित कार्यक्रम में नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने रुपये में गिरावट के बजाय बढ़ते व्यापार घाटे को लेकर चिंता व्यक्त की थी. उन्होंने कहा कि कुछ क्षेत्र हैं जिन्हें मजबूत रुपये से फायदा होता है लेकिन मौजूदा स्थिति में रुपये की गिरावट को लेकर ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि आर्थिक नीति में केवल राजकोषीय घाटे के आंकड़े पर ध्यान नहीं देना चाहिए. सरकार के लिये रुपये को सुदृढ़ करने के प्रयास करना और कदम उठाना बहुत मुश्किल है.

दरअसल पिछले कई दिनों से जारी रुपये की गिरावट आज यानी सोमवार को भी जारी रही. देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लग रही आग के बीच रुपये ने भी मुसीबत बढ़ाई है. रुपया, डॉलर के मुकाबले लगातार गिरावट के नये रिकॉर्ड बना रहा है. क्रूड ऑयल में तेजी से डॉलर में मजबूती और रुपए में दबाव देखने को मिला है. वहीं बीते दिनों में अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर, तुर्की और अर्जेंटीना में करेंसी संकट ने रुपए की कमर तोड़ दी है. विशेषज्ञों का कहना है कि फिलहाल जब तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हालात नहीं सुधरते, तब तक रुपये की सेहत सुधरनी मुश्क‍िल है.