राजस्थान: गुर्जर आंदोलन कारण कुल 21 ट्रेनें प्रभावित, 7 ट्रेन रद्द

0
47
राजस्थान: गुर्जर आंदोलन कारण कुल 21 ट्रेनें प्रभावित

एक हजार से लेकर दो हजार के बीच आंदोलनकारी दिल्ली-मुंबई मलारना और निमोदा रेलवे स्टेशन के बीच पटरी पर बैठे हुए हैं। इससे पहले शुक्रवार को गुर्जर संघर्ष समिति (जीएसएस) के सदस्यों ने एक महापंचायत बुलाई थी। गुर्जर समुदाय राजस्थान में नौकरी और एडमिशन में पांच फीसदी आरक्षण की मांग कर रहा है। इस दौरान आंदोलनकारियों ने रेलवे ट्रैक के बीचोंबीच अलाव जलाए और रातभर वहीं जमे रहे। इससे दिल्ली-मुबंई रेलमार्ग की दर्जनों ट्रेनें प्रभावित हुई। रेलवे ट्रैक पर पड़ाव को देखते हुए कई ट्रेनों का मार्ग परिवर्तित किया गया है। आंदोलन के वजह से 21 ट्रेनें प्रभावित हुई हैं। हालांकि अभी तक कहीं से गुर्जर आंदोलन को लेकर हिंसक खबर नहीं आई है।

दरसल पांच फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समाज का सवाईमाधोपुर के मलारना डूंगर रेलवे स्टेशन के पास शनिवार को लगातार दूसरे दिन महापड़ाव जारी है। महापड़ाव में जुटे आंदोलनकारियों ने शुक्रवार की रात रेलवे ट्रैक पर ही गुजारी। रेलवे ट्रैक पर पड़ाव को देखते हुए कई ट्रेनों का मार्ग परिवर्तित किया गया है। आंदोलकारियों ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि जब देश में अच्छा प्रधानमंत्री और प्रदेश में अच्छा मुख्यमंत्री है, तो उनसे आग्रह है कि वे गुर्जर समुदाय की मांग सुनें क्योंकि उनके लिए आरक्षण मुहैया कराना कोई बहुत बड़ा काम नहीं है। महापड़ाव के दूसरे दिन शनिवार को सरकार से वार्ता का दौर शुरू होने की संभावना है।

सरकार की ओर से गठित मंत्री समूह की कमेटी की गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के साथ वार्ता हो सकती है। वार्ता के लिए कमेटी में शामिल पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा और आईएएस नीरज के। पवन पहुंच सकते हैं। वार्ता मलारना डूंगर रेलवे ट्रैक पर ही होगी। वहीं आज 11:00 बजे दौसा के सिकंदरा में भी गुर्जर समाज की महापंचायत होगी। गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के आह्वान पर जयपुर के कोटपुतली में भी गुर्जर समाज की पंचायत होने की संभावना है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि गुर्जर बताएं कि राजस्थान सरकार उनके लिए क्या कर सकती है। हम तुरंत करने के लिए तैयार हैं।