फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, केंद्र सरकार से नहीं मिली कोई राहत

0
63
फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम,केंद्र सरकार से नहीं मिलेगी राहत
File Picture

देशभर में पेट्रोल और डीजल के दामों में वृद्ध‍ि थमने का नाम नहीं ले रही है. पेट्रोल-डीजल के दाम एक दिन की राहत के बाद फिर बढ़े हैं. पेट्रोल के दाम में 13 पैसे और डीजल के दाम में 11 पैसे की बढ़ोतरी हुई है. कीमत में बढ़ोतरी के बाद राजधानी में दिल्ली में एक लीटर की पेट्रोल की कीमत 81 रुपये हो गई है. वहीं डीजल 73.08 रु?लीटर के भीव पर मिल रहा है. मुंबई की बात करें तो यहां लोगों एक लीटर पेट्रोल खरीदने के लिए 88.39 खर्च करने पड़ रहे हैं. मुंबई में एक लीटर डीजल की कीमत 77.58 रु/ली पर पहुंच गई है. कोलकाता में पेट्रोल 82.87 रु/ली, 84.19 रु/लीटर के भाव से मिल रहा है.

सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिये राजकोषीय घाटा 3.3 प्रतिशत रखने का लक्ष्य रखा है. पीयूष गोयल ने कहा कि सरकार को कोई भी कदम दीर्घकाल में उसके पड़ने वाले प्रभाव को ध्यान में रखकर उठाना चाहिए न कि अल्पकालीन हितों को ध्यान में रखना चाहिए. उनका कहना है कि ईंधनों पर उत्पाद शुल्क में कटौती से राजकोषीय घाटा बढ़ेगा और समस्या कम होने की बजाए जटिल हो जाएगी. पेट्रोल-डीजल के बढ़े दाम और डॉलर के मुकाबले रुपये की घटती कीमत को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अर्थव्यवस्था पर बैठक बुलाई है. इस बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली भी शामिल होंगे और भी कुछ कैबिनेट मंत्रियों के शामिल होने की उम्मीद है.

दरअसल, रुपये में कमजोरी से आयात महंगा हुआ है, जिससे ईंधन कीमतों में बढ़ोतरी जारी है. पेट्रोलियम कंपनियों के अनुसार केंद्र या राज्य के कर तथा डीलर के कमीशन को अलग कर पेट्रोल का रिफाइनरी गेट पर दाम 40.45 रुपये लीटर पड़ता है. इधर राजस्थान के बाद अब आंध्र प्रदेश ने भी पेट्रोल डीज़ल पर वैट घटा दिया है. आंध्र प्रदेश में अब पेट्रोल और डीज़ल दो रुपये प्रति लीटर सस्ता हो गया है. राज्य के मुख्यमंत्री चंद्रबाबु नायडू ने कहा कि वैट में कमी से राज्य को सालाना 1120 करोड़ रुपये का नुकसान होगा. राजस्थान और आंध्र के बाद अब दूसरे राज्यों पर भी तेल की क़ीमतों में कमी लाने का दबाव है.