पीएनबी घोटाला: मेहुल चोकसी ने जाँच एजेंसियो के आरोपों को बताया झूठे और बेबुनियाद

0
39
पीएनबी घोटाला:मेहुल चोकसी जाँच एजेंसियो आरोपों बताया झूठे और बेबुनियाद

देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले का फरार आरोपी मेहुल चोकसी का एक वीडियो सामने आया है जिसमे चोकसी ने कहा कि प्रवर्तन निदेशाल के सभी आरोप झूठे और आधारहीन हैं. मेहुल चोकसी ने अपने पहले वीडियो बयान में कहा, ”प्रवर्तन निदेशालय ने मेरे ऊपर जो भी आरोप लगाए हैं वो झूठे और बेबुनियाद हैं. उन्होंने गैर कानूनी तरीके से मेरी संपत्ति जब्त कर ली है. ईडी सीबीआई मुझे फंसा रहे हैं.” मेहुल चोकसी के मामले जांच एजेंसियों की लापरवाही से प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) नाराज होने की खबर सामने आई थी. इसी कारण सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टीगेशन (सीबीआई) ने एंटीगा सरकार पर गिरफ्तारी का दवाब बनाया है.

कुछ दिन पहले ही एंटीगा सरकार ने मेहुल चौकसी मामले पर भारत सरकार को बड़ा झटका दिया था. एंटीगा सरकार ने साफ तौर पर चोकसी को भारत भेजने से मना कर दिया था. इस मामले में भारत सराकर की लापरवाही भी खुलकर सामने आई थी. एंटीगुआ सरकार ने मेहुल चोकसी को लेकर जो सवाल पूछे थे भारत की ओर से उनका जवाब तक नहीं भेजा गया. आरोपी मेहुल चोकसी को लेकर भारत सरकार ने तीन रिक्वेस्ट की थी. जिनमें कहा था कि चोकसी को औपचारिक तौर पर गिरफ्तार किया जाए उसका पासपोर्ट रद्द किया जाए और उसे भारत प्रत्यार्पण किया जाए. इस पर एंटीगुआ प्रशासन ने भारत की तीनों रिक्वेस्ट को सिरे से नकार दिया है.

वीडियो में मेहुल ने कहा कि बेवजह मेरा पासपोर्ट रद्द कर दिया गया है और कोई कारण भी नहीं बताया गया. उसने कहा कि मेरा पासपोर्ट सस्पेंड है, ऐसे में सरेंडर करने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता. वीडियो में मेहुल चोकसी ने कहा, ”पासपोर्ट अथॉरिटी ने मेरा पासपोर्ट रद्द कर दिया. मुझे पासपोर्ट ऑफिस से एक मेल मिला जिसमें कहा गया कि भारत की सुरक्षा के मद्देनजर मेरा पासपोर्ट रद्द कर दिया गया है. इसके जवाब में मैंने मुंबई रीजनल पासपोर्ट ऑफिस को मेल किया कि मेरे पासपोर्ट से सस्पेंशन हटा दिया जाए. मुझे वहां से कोई रिप्लाई नहीं मिला.” बता दें कि करीब 13 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी मुख्य आरोपी हैं.