J-K: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को चेतावनी, कहा- शुजात बुखारी याद है न

0
74
बीजेपी विधायक चौधरी लाल सिंह पत्रकारों को दी हत्या चेतावनी
File Picture

महबूबा कैबिनेट में मंत्री रह चुके चौधरी लाल सिंह ने कठुआ गैंगरेप और राज्य के मौजूदा हालात को लेकर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में शुजात बुखारी की हत्या का उदहारण देते हुए पत्रकारों को बातों ही बातों में चेतावनी दे दी. उन्होंने राइजिंग कश्मीर के संपादक और वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की नृशंस हत्या का जिक्र करते हुए कहा कि क्या ऐसे रहना है जैसे बसारत (शुजात बुखारी) के साथ हुआ. गौरतलब है कि कठुआ गैंगरेप के आरोपियों के पक्ष में रैलियां निकालकर जम्मू-कश्मीर सरकार में मंत्री रहे बीजेपी विधायक चौधरी लाल सिंह पहले भी विवादों में आ चुके है. जिसके कारण उन्हें मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

पीडीपी-बीजेपी सरकार में मंत्री रहे लाल सिंह ने शुक्रवार को कठुआ गैंगरेप और राज्य के मौजूदा हालात को लेकर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ”जैसे कश्मीर के पत्रकारों ने गलत माहौल तैयार कर दिया था. अब तो मैं कश्मीर के पत्रकारों से कहूंगा कि आप भी अपनी पत्रकारिता की लाइन तय कर लें कि कैसे रहना है. वैसे रहना जैसे शुजात बुखारी के साथ हुआ है? इसीलिए अपने आपको(पत्रकार) संभालें, और एक लाइन खींचे ताकि यह भाईचारा न टूटे और यह बना रहे.” दरअसल लाल सिंह का मानना है कि कठुआ मामले को पत्रकारों की वजह से हवा मिली और उन्हें मंत्री पद से त्याग पत्र देना पड़ा.

दरअसल रासाना गांव में एक आठ साल की लड़की के साथ जनवरी में गैंगरेप किया गया था और उसकी हत्या कर दी गई थी. मामला मीडिया में आने के बाद से बाद देशभर में बवाल हुआ था. बीजेपी के दो नेता और तब महबूबा सरकार में मंत्री रहे लाल सिंह और चंदर प्रकाश गंगा ने आरोपियों के पक्ष में रैलियां निकाली थी. इस खबर के बाद बीजेपी बैकफुट पर आई और दोनों नेता को महबूबा कैबिनेट से इस्तीफा देना पड़ा. बीजेपी विधायक लाल सिंह अपने मंत्री पद से इस्तीफा देने का कारण पत्रकारों को मानते है यही वजह है कि उन्होंने पत्रकारों को अप्रत्यक्ष तौर पर हत्या की धमकी दे डाली.