सावधान: इन राज्यों की मछलियों को खाने से हो सकता है कैंसर

0
97
आन्ध्रा-बिहार की मछलियों को खाने से हो सकता है कैंसर
File picture

आंध्र प्रदेश से आने वाली मछलियों को या बिहार में रहकर मछली खाना किसी खतरे से कम नहीं है। बिहार में मछलियों के खाने से लोग कैंसर जैसी घातक बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बिहार में आने वाली मछलियों में फर्मलीन, कैडमियम लेड और फॉर्मल डिहाइड की मात्रा पाई गई है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है। दरअसल फर्मलीन का प्रयोग मछलियों को अधिक दिनों तक सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है। इसके इस्तेमाल से कैंसर होने की संभावना बहुत अधिक होती है। मिली जानकारी के अनुसार आंध्र प्रदेश से आने वाली मछलियों में बड़ी मात्रा में फर्मलीन का प्रयोग किया जाता है।

फर्मलीन युक्त या दूषित मछलियों को खाने से बैक्टिरियल इंफेक्शन का भी खतरा अधिक होता है। कई बार लोग जल्दी रिकवर कर लेते हैं लेकिन अगर इम्यून सिस्टम कमजोर हो तो इंफेक्शन की वजह से लोगों की जान तक जा सकती है। इसलिए कभी भी ऐसी चीजों को खाने से पहले अच्छे से जांच पड़ताल करें ताकि इसे खाना भारी ना पड़े। इसकी पुष्टि के लिए जांच के लिए सैंपल कोलकाता भेजे गए थे जहां सभी 10 मानकों पर निगेटिव रिपोर्ट आए। इसका मतलब साफ है कि बिहार में मछली खाना आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है। फर्मलीन के अलावा जिन मछलियों में मिथाइल मर्करी अधिक मात्रा में पाई जाती है उन्हें खाने से बचना चाहिए।

मिथाइल मर्करी खासकर प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खाना घातक हो सकता है क्योंकि मिथाइल मर्करी भ्रुण के मस्तिष्क, नर्वस सिस्टम और किडनी को क्षति पहुंचाता है। यह एक जहरीला रसायन है जो प्लासेंटा के जरिये भ्रुण तक जाकर उसको नुकसान पहुंचाता है। सभी 10 मानकों पर निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद बिहार में अब सरकार मछलियों पर जल्द ही बैन लगा सकती है। फर्मलीन की पुष्टि के बाद अधिकतर मछली बाजार बंद पाए गए हैं। इसलिए अगर आप मछली खाने के शौकिन हैं और अपने स्वास्थ्य से प्यार है तो ये खबर आपके लिए बहुत जरूरी है।
हो सके तो इन्हे खाने से बचने की कोशिस करे।