अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट को सही साबित करने के लिए काटा नवजात का प्राइवेट पार्ट, नवजात की मौत

0
59
डॉक्टर ने काटा नवजात का प्राइवेट पार्ट
डॉक्टर ने काटा नवजात का प्राइवेट पार्ट

झारखंड में चतरा जिले से एक फर्जी डॉक्टर की करतूत सामने आयी है. फर्जी डॉक्टर ने अपने क्लिनिक में एक गर्भवती महिला की हुए अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट को सही साबित करने के लिए उसके नवजात बच्चे का लिंग काट दिया. नवजात का प्राइवेट पार्ट काटने के कारण अत्यधिक रक्त का रिसाव होने लगा जिसकी वजह से बच्चे की मौत हो गयी. पुलिस थाने में डॉक्टर के खिलाफ दो FIR दर्ज किए पहली एफआईआर नवजात के पिता की शिकायत पर और दूसरी एफआईआर स्व संज्ञान से लिंग निर्धारण टेस्ट करने के लिए दर्ज की गई है.पुलिस ने जब आरोपी फर्जी डॉक्टर की क्लिनिक पर छापा मारा तबतक आरोपी वहा से भाग चुका था. पुलिस ने फिलहाल क्लीनिक को सील कर दिया है.

जानकारी के मुताबिक बीते मंगलवार की रात अनिल पांडा की पत्नी को लेबर पेन उठने के बाद इटखोरी में डॉक्टर अनुज कुमार के क्लीनिक में भर्ती करवाया गया था. परिजनों के मुताबिक ऑपरेशन से पहले मां का अल्ट्रासाउंड किया गया, जिसके मुताबिक गर्भ पल रहा बच्चा लड़की थी. परिजनों का आरोप है कि मां को गर्भ से जुड़ी कोई जटिलता नहीं थी, इसके बावजूद सीजेरियन कर डिलीवरी कराई गई. कुछ ही घंटे बाद जब मां ने बच्चे को जन्म दिया तो वह लड़का निकला.डॉक्टर ने अपने क्लीनिक की अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट को सही साबित करने के लिए नवजात का प्राइवेट पार्ट ही काट डाला जिसके कारण अत्यधिक रक्त का रिसाव होने से नवजात की मौत हो गयी.