सास-ससुर को प्रताड़ित करने वाली बहु पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त

0
32
सास-ससुर को प्रताड़ित वाली बहु को दिल्ली हाई कोर्ट सख्त
File Picture

दिल्ली हाई कोर्ट ने एक सास-ससुर और उनकी बहु के मामले पर सुनावई करते हुए अहम् फैसला लिया. कोर्ट ने कहा कि अगर कोई महिला अपने सास-ससुर के साथ क्रूरता करती है, तो वो उनके घर में नहीं रह सकती है. दिल्ली की एक ज़िला अदालत ने एक महिला को अपने सास-ससुर के पहले तल्ले को खाली करने का आदेश दिया था जिसके बाद दर्शना नाम की इस महिला ने हाई कोर्ट में इस फैसले को चैलेंज किया. यहां भी दर्शना को मुंह की खानी पड़ी. हाई कोर्ट ने कहा, “नोट किया जाता है कि दर्शना को धनी राम और उनकी पत्नी के साथ रहने का कोई अधिकार नहीं है. ऐसा इसलिए है क्योंकि तीनों के रिश्ते इस हद तक खराब हैं जिनके सही होने की कोई गुंजाइश नहीं हैं.”

दरअसल दिल्ली मेंटेनेंस एंड वेलफेयर ऑफ़ पैरेंट्स एंड सीनियर सिटिजन (संसोधन) नियम, 2016 के मुताबिक एक सीनियर सिटिजन अपने बेटे या बेटी को बुरे बर्ताब के लिए अपने घर से निकाल सकता है लेकिन ये कानून उसकी बहू पर लागू नहीं होता था. जस्टिस विभू भाकरी ने कहा कि इस कानून से बहू को बाहर रखना इसके साथ न्याय नहीं होगा और इससे उन वरिष्ठ नागरिकों के अधिकारों की रक्षा नहीं की जा सकेगी जिनके लिए ये कानून बनाया गया है. कोर्ट ने 11 पन्नों के अपने आदेश में कहा कि ये समझ से परे हैं कि जब ऐसी स्थिति में कोई वरिष्ठ नागरिक अपने बेटे या बेटी को घर से बाहर निकाल सकता है तो वो अपनी बहू की हिंसा या बुरे बर्ताव को क्यों बर्दाश्त करेगा.