बुलंदशहर हिंसा: पुलिस की लापरवाही, आरोपियों के पोस्टर में छापी बेगुनाह की तस्वीर

0
75
बुलंदशहर हिंसा:पुलिस लापरवाही,आरोपियों के पोस्टर में छापी बेगुनाह की तस्वीर

बुलंदशहर में गोकशी के शक में भड़की हिंसा के बाद पुलिस अब इंस्पेक्टर की हत्या के आरोपियों की तलाश में जुटी है. पुलिस ने 24 घंटे पहले 18 आरोपियों का एक पोस्टर जारी किया. लेकिन इसमें पुलिस की एक बड़ी लापरवाही सामने आयी है. आरोपियों के लिए लगाए गए पोस्टर में एक आरोपी के नाम के ऊपर उसके हमनाम बेगुनाह का फोटो लगा दिया गया. मामला तब सामने आया जब एक व्यक्ति ने दावा किया कि आरोपियों की सूची में उसकी तस्वीर लगा दी गई है. उसने आज मेरठ में एडीजी प्रशांत कुमार के ऑफिस पर पहुंचकर उनसे मुलाकात की और अपराधियों के पोस्टर से अपना नाम हटाए जाने की मांग की.

विशाल त्यागी नाम के शख्स ने यह दवा किया कि आरोपियों की सूची में उसकी तस्वीर लगा दी गई है. विशाल ने आज मेरठ में एडीजी प्रशांत कुमार के ऑफिस पर पहुंचकर उनसे मुलाकात की और अपराधियों के पोस्टर से अपना नाम हटाए जाने की मांग की. युवक का कहना है कि उसी 18 आरोपियों में पुलिस ने उसकी भी तस्वीर लगा दी. उसने एडीजी को अपना आधारकार्ड, एम्पलाई कार्ड और खुद के नाम, वल्दियत और पते से संबंधित दस्तावेज भी सौंपे हैं. एसपी अतुल कुमार ने कहा, ‘यह मामला हमारे ध्यान में आया है कि एक फोटो गलती से प्रकाशित हो गई है. हम मामले की जांच कर रहे हैं और तस्वीर हटा ली जाएगी.’

विशाल त्यागी नाम के इस शख्स ने कहा, ‘पुलिस ने मुझे कोई और समझकर सूची में तस्वीर लगा दी. मेरा इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है. मैं घटनास्थल से 40 किमी दूर था.’ बता दें कि बीते शुक्रवार को पुलिस ने फरार 18 आरोपियों की तस्वीर जारी की थी. फ़िलहाल पुलिस ने हिंसा और इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या मामले में आरोपित 27 नामजद आरोपियों में से 13 को गिरफ्तार किया है. गुरुवार को दो अन्य आरोपी सौरभ और रमेश जोगी को गिरफ्तार किया गया. लेकिन मुख्य आरोपी योगेश राज घटना के 14 दिन बाद भी पुलिस कि गिरफ्त से दूर है. बता दे कि पुलिस से भाग रहे योगेश ने अपनी सफाई में सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी डाला है.