71 वर्षीय बौद्ध गुरु पर लगा महिला अनुयायियों का यौन उत्पीड़न का आरोप

0
80
बौद्ध गुरु पर महिला अनुयायियों का यौन उत्पीड़न का आरोप
File Picture

71 वर्षीय बौद्ध गुरु सोग्याल रिनपोचे पर महिला अनुयायियों का यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगा है. उन पर हरम रखने का भी आरोप है. कथित तौर पर सोग्याल सुंदर जवान लड़कियों का एक हरम रखता था और इन लड़कियों का यौन व मानसिक उत्पीड़न करता था.रिपोर्ट्स के मुताबिक, वह अपने अनुयायियों से अपनी पीठ पोंछने के लिए कहता था. वह शिष्याओं से ज्ञान के मार्ग पर पहुंचने के लिए यौन संबंध बनाने की बात करता था. इस महीने की शुरुआत में आई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि उसके कई अनुयायी शारीरिक, यौन व मानसिक उत्पीड़न के शिकार हुए हैं. दलाई लामा भी इस बौद्ध गुरु से हर तरह का संबंध तोड़ने का ऐलान कर चुके हैं

सोग्याल रिनपोचे बौद्ध गुरु दलाई लामा के बाद सबसे ज्यादा प्रसिद्ध तिब्बती बौद्ध गुरु है. सोग्याल रिनपोचे वर्षों से अनुयायियों द्वारा पूजे जाते रहे हैं. उनकी किताब ‘द तिब्बतन बुक ऑफ लिविंग ऐंड डाइंग’ की 30 लाख से ज्यादा कॉपियां बिक चुकी हैं. उन्हें हर कोई श्रद्धा की नजरों से देखता है. लेकिन प्रसिद्ध और प्रभावशाली सोग्याल का एक दूसरा चेहरा भी सामने आया है. रिपोर्ट में बताया गया था कि सोग्याल के अनुयायियों को किस हद तक उत्पीड़न बर्दाश्त करना पड़ रहा था. इस बौद्ध गुरु के कई पूर्व शिष्यों ने सोग्याल के व्यवहार के बारे में अखबार ‘द सन’ से बातचीत में कई खुलासे किए.

एक शिष्य ने कहा, सोग्याल अत्याचारी और बर्बाद इंसान है. वह सेक्स, खाना, स्मोकिंग और मारपीट करने का आदी है. एक दूसरे शिष्य ने बताया, सोग्याल कहता था कि उनके संपर्क में आने वाली हर चीज पवित्र हो जाती है इसलिए लड़कियां उसकी बात मान लेती थीं. रिनपोचे की एक पूर्व शिष्या ने 2011 में कनाडियन टीवी पर इस बारे में कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे. उसने दावा किया था कि रिनपोचे ने उसका यौन उत्पीड़न किया. मिमि (बदला हुआ नाम) ने बताया था, मैं एक दिन उनके कमरे में अकेले थी. तब उन्होंने मुझसे कपड़े उतार देने के लिए कहा. मुझे लगा कि शायद यह समर्पण की कोई परीक्षा है लेकिन रिनपोचे ने मेरे साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाया