बिहार:छेड़छाड़ का विरोध करने पर 40 छात्राओं की डंडों से पिटाई

0
151
बिहार:छेड़छाड़ विरोध करने पर 40 छात्राओं की डंडों से पिटाई

बिहार में महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा को लेकर बड़े सवाल खड़े हो गए हैं. कोई दिन ऐसा नहीं बीतता जब बिहार से लूट, हत्या, छेड़छाड़ और बलात्कार की खबरे नहीं आती है. ताज़ा घटना शनिवार शाम की है जब सुपौल जिले के त्रिवेणीगंज में स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय हाई स्कूल में रहने वाली छात्राओं ने जब मनचलों की छेड़छाड़ का विरोध किया तो उन लोगों ने लड़कियों की जमकर पिटाई कर दी. इस घटना में तकरीबन 40 लड़कियां बुरे तरीके से घायल हो गईं हैं. थोड़ी देर के बाद जब प्रशासन को इसकी जानकारी मिली तो एंबुलेंस के साथ स्कूल पहुंचे और एक-एक करके सभी छात्राओं को स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज के लिए ले जाया गया.

दरअसल, पिछले कई महीनों से त्रिवेणीगंज में स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय हाई स्कूल की छात्राएं स्थानीय युवकों की छेड़छाड़ का शिकार बन रही थीं. कई बार इन छात्राओं ने स्कूल प्रशासन से इसकी शिकायत भी लेकिन उनकी हर शिकायत को नजरअंदाज कर दिया गया. गांव के लड़के अक्सर स्कूल की दीवार पर अश्लील और भद्दी बातें लिखकर लड़कियों को शर्मसार किया करते हैं. आखिरकार जब शनिवार को इन छात्राओं ने एक युवक को फिर से स्कूल की दीवार पर अश्लील बातें लिखते पकड़ लिया तो उनके बर्दाश्त की सीमा खत्म हो गई और उन्होंने लड़के को जमकर लताड़ा जिसके बाद यह दर्दनाक घटना घटी.

मनचलों ने मना करने के बाद पहले तो स्कूल में तोड़फोड़ की उसके बाद एक-एक करके तकरीबन 3 दर्जन से भी ज्यादा छात्राओं की जमकर पिटाई की. तकरीबन एक घंटे तक गुंडों का कहर छात्राओं पर बरपता रहा और कोई भी उनकी मदद के लिए सामने नहीं आया. इस घटना में तकरीबन 40 लड़कियां बुरे तरीके से घायल हो गईं हैं. इस दौरान कई छात्राओं के शरीर से खून बह रहा था और वह दर्द से कराह रही थीं. घटना को लेकर जिला शिक्षा पदाधिकारी ने कहा कि वह दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे. गौरतलब है कि बिहार में नितीश कुमार का सुशासन के दावों कि पोल दिन पर दिन खुलती जा रही है और सरकार प्रदेश में बढ़ते अपराध को रोकने में असमर्थ और अपराधियों के सामने पूरी तरह नतमस्तक नज़र आ रही है.