क्रू मेंबर्स की लापरवाही से 166 यात्रियों की जान पड़ी खतरे में, हादसा टला

0
55
जेट एयरवेज़ क्रू मेंबर्स लापरवाही 166 यात्रियों जान पड़ी खतरे

मुंबई से जयपुर जाने वाली जेट एयरवेज़ की फ्लाइट संख्या 9W 697 में एक बड़ा हादसा होने से टल गया. क्रू मेंबर्स की एक भूल के कारण फ्लाइट को आपात स्थिति में वापस मुंबई में उतारान पड़ा. केबिन क्रू की भूल की वजह से फ्लाइट में मौजूद 166 यात्रियों की जान आफत में पड़ गई. दरअसल टेकऑफ के दौरान क्रू मेंबर केबिन का प्रेशर स्विच मेंटेन करना भूल गए थे जिसके कारण ये दुर्घटना हुई. इस वजह से फ्लाइट के अंदर दबाव अनियंत्रित हो गया और करीब 30 यात्रियों के नाक और कान से खून बहने लगा. इसके अलावा कई यात्रियों को सिर दर्द की भी शिकायत है. सभी का इलाज मुंबई के एयरपोर्ट पर चल रहा है.

घटना के वक़्त फ्लाइट में करीब 166 यात्री सवार थे. सभी यात्रियों का इलाज मुंबई के एयरपोर्ट पर होने के बाद में यात्रियों को दूसरी फ्लाइट से रवाना किया गया. घटना आज सुबह तय समय से तीन मिनट पहले 5 बजकर 52 मिनट पर हुई. बताया जा रहा है कि जिस दौरान ये फ्लाइट वापस हुई तब विमान करीब 14000 फीट की ऊंचाई पर था. बीच रास्ते पर 6 बजकर 12 मिनट पर यूटर्न लिया और 7 बजकर 24 मिनट पर वापस इमरजेंसी लैंडिग की. इस मामले में डीजीसीए ने बताया कि एयरक्राफ्ट एक्सिडेंट इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो ने जांच शुरू कर दी है. जेट एयरवेज ने पूरे मामले पर बयान जारी कर खेद जताया है.

जेट एयरवेज की ओर से बताया गया जांच पूरी होने तक पूरे क्रू को ऑफ ड्यूटी कर दिया गया है. साथ ही दो पायलटों को भी हटा दिया गया है. जब तक इस मामले की पूरी जांच नहीं हो जाती वे सभी ऑफ रोस्टर ही रहेंगे. इस हादसे के बाद जेट एयरवेेज़ की ओर से बयान जारी कर दिया गया है. जेट एयरवेज़ का कहना है कि हादसे के बाद फ्लाइट को मुंबई वापस लाया गया है, इस दौरान फ्लाइट में 166 यात्री, 5 क्रू मेंबर्स मौजूद थे. जिन यात्रियों को तकलीफ हुई है उनका इलाज करवाया जा रहा है. नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से भी इस मामले पर बयान जारी किया गया है. मंत्रालय ने इस मामले पर DGCA से रिपोर्ट मांगी गई है.